Wednesday, 12 February 2014

Wednesday Words - Amitabh Bachchan

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahin rahta
Kisi bhi aine mein der tak chehra nahin rahta

परखना मत, परखने में कोई अपना नहीं रहता 
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता 

Bade logon se milne mein hamesha fasila rakhna
Jahan darya samandar se mila darya nahin rahta

बड़े लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासिला रखना
जहाँ दरिया समंदर से मिला, दरिया नहीं रहता

Hazaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein
Ajab maan hun koi bachcha mera zinda nahin rahta

हज़ारो शेर मेरे सो गए काग़ज़ की कब्रों में
अजब माँ हूँ, कोई बच्चा मेरा ज़िंदा नहीं रहता

Mohabbate ek khushboo hai hamesha saath chalti hai
Koi insaan tanhai mein bhi tanha nahin rahta

मोहब्बत एक खुश्बू है हमेशा साथ चलती है
कोई इंसान तन्हाई में भी तनहा नहीं रहता

Tumhara shehr to bilkul naye andaz wala hai
Hamare shehr mein bhi koi ab hamsa nahin rahta....

तुम्हारा शहर तो बिलकुल नए अंदाज़ वाला है
हमारे शहर में भी कोई अब हमसा नहीं रहता

-Amitabh Bachchan